पुण्यतिथि पर याद किये गये स्वतंत्रता सेनानी रामनंदन सिंह

पुण्यतिथि पर याद किये गये स्वतंत्रता सेनानी रामनंदन सिंह। (Freedom fighter Ramnandan Singh remembered on his death anniversary)

बिहार।पटना।मोकामा।कल दिनांक 31 जनवरी 24 को स्टेशन रोड अव्स्तिथ दुर्गा स्थान के प्रांगन में स्वतंत्रता सेनानी रामनंदन सिंह की याद में एक सभा का आयोजन किया गया था। इस अवसर पर मोकामा के गणमान्य लोगों ने उनके तैलय चित्र पर पुष्पांजली अर्पित की।मोकामा नगर परिषद के सभापति निलेश कुमार ने कहा की रामनंदन सिंह देश की आजादी में भाग लेने वाले एक येसे योधा थे जीनके डर से अंग्रेज भी थर थर कांपते थे। कल जब मोकामा शहर स्वतंत्रता सेनानी रामनंदन सिंह की जयंती मनाने के लिए इकट्ठा हुआ तो वातावरण श्रद्धा और कृतज्ञता की भावना से भरा हुआ था । माँ दुर्गा स्थान के पवित्र प्रांगण में स्वतंत्रता सेनानी रामनंदन सिंह को याद करने के लिए सेकड़ों गणमान्य जुटे हुए थे । सभापति नीलेश कुमार ने इस बहादुर योद्धा के तैलचित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर उनकी विरासत का सम्मान किया गया।

(Freedom fighter Ramnandan Singh remembered on his death anniversary)

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

Freedom fighter Ramnandan Singh remembered on his death anniversary
विज्ञापन

समाज के सभी क्षेत्रों के प्रतिष्ठित व्यक्ति रामनंदन सिंह के तैलचित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए आगे आये (Eminent persons from all walks of life came forward to pay homage to the oil paintings of Ramnandan Singh.)

जैसे ही समारोह शुरू हुआ, समाज के सभी क्षेत्रों के प्रतिष्ठित व्यक्ति रामनंदन सिंह के तैलचित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए आगे आये। स्वतंत्रता सेनानी रामनंदन सिंह के सुपुत्र छतिन्द्र प्रसाद सिंह ने एक भावपूर्ण भाषण दिया, जिसमें स्वतंत्रता के संघर्ष पर रामनंदन सिंह के व्यापक प्रभाव पर जोर दिया गया था । उनके शब्द उपस्थित लोगों के मन में गहराई से गूंज गए और उन्हें रामनंदन सिंह जैसे अनगिनत नायकों के बलिदान की याद दिला दी।रामनंदन सिंह का अटूट निश्चय और निडरता पूरे क्षेत्र में प्रसिद्ध थी। उनकी उपस्थिति मात्र से ब्रिटिश उत्पीड़कों के दिलों में डर बैठ गया, जो अपने शासन के खिलाफ किसी भी असंतोष को दबाने की कोशिश करते थे। वह उनके लिए प्रतिरोध और आशा का प्रतीक बन गया। (Freedom fighter Ramnandan Singh remembered on his death anniversary)

अधिवक्ता मनोज प्रकाश ने कहा कि उनके आदर्शों पर चलना ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी।(Advocate Manoj Prakash said that following his ideals would be the true tribute to him.)

अधिवक्ता मनोज प्रकाश ने कहा कि उनके आदर्शों पर चलना ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी।इस मौके पर उनके सुपुत्र छतिन्द्र प्रसाद सिंह ,मोकामा नगर परिषद के सभापति निलेश कुमार,अधिवक्ता मनोज प्रकाश, फूलचंद महतों,जयकांत सिंह , ,मदन प्रसाद सिंह, आनंद शंकर, रंजन कुमार रिशु, भरत प्रसाद सिंह आदि मौजूद थे । (Freedom fighter Ramnandan Singh remembered on his death anniversary)

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

Freedom fighter Ramnandan Singh remembered on his death anniversary
विज्ञापन

देश और दुनिया की इस तरह के अन्य खबरों को जानने के लिए मोकामा ऑनलाइन डॉट कॉम के अतिरिक्त हमारे सोशल मीडिया प्लेटफार्म फेसबुक ,ट्विटर ,इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर हमे फॉलो करें।

ये भी पढ़ें:-राम मंदिर के भक्तों के लिए अयोध्या में 10 अवश्य घूमने योग्य स्थान

ये भी पढ़ें:-भारतीय राजनीति में 6 सबसे प्रभावशाली महिलाएं

error: Content is protected !!