किसान नेता चौधरी राकेश टिकैत आयेंगे मोकामा

किसान नेता चौधरी राकेश टिकैत आयेंगे मोकामा। ( Farmer leader Chaudhary Rakesh Tikait will come to Mokama)

बिहार।पटना।मोकामा।मोकामा के मरांची में कल दिनांक 26-10-23 को देश के सबसे बड़े किसान नेता किसान नेता चौधरी राकेश टिकैत के मोकामा आगमन को लेकर कार्यक्रम की रूप रेखा रखने के लिए एक मीटिंग आयोजित की गई ।भारतीय किसान यूनियन के के बिहार प्रदेश प्रभारी दिनेश कुमार ने मरांची में किसानो की हालात का जायजा लिया।ज्ञात हो कि मोकामा के मरांची में पिछले 9 सालों से खेत में बुआई तक नहीं हुई है ।दियारा क्षेत्र के खेत का राजस्व रसीद तक नहीं कटता है।भूमि अधिग्रहण में भी बहुत समस्या है, कृषि के लिए बिजली में अनुदान ,नहर आदि की गंभीर समस्या है ।इन मुद्दों का मोकामा के मरांची में कृषि क्षेत्र पर गंभीर असर पड़ा है।लगभग एक दशक तक खेतों में बुआई न होने से न केवल किसानों की आजीविका प्रभावित हुई है, बल्कि स्थानीय अर्थव्यवस्था भी चरमरा गई है। दियारा क्षेत्र में खेतों से राजस्व प्राप्तियों की कमी किसानों पर वित्तीय तनाव को और बढ़ा देती है, जिससे उनके लिए अपनी भूमि और उपकरणों में निवेश करना मुश्किल हो जाता है। (Farmer leader Chaudhary Rakesh Tikait will come to Mokama)

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

Farmer leader Chaudhary Rakesh Tikait will come to Mokama
विज्ञापन

कृषि के लिए बिजली सब्सिडी का मुद्दा एक और गंभीर चिंता का विषय है (The issue of electricity subsidy for agriculture is another serious concern)

भूमि अधिग्रहण की समस्याएँ स्थिति में जटिलता की एक और परत जोड़ देती हैं। भूमि तक उचित पहुंच के बिना, किसान अपनी खेती का विस्तार करने या आधुनिक कृषि तकनीकों को लागू करने में असमर्थ हैं। इससे उत्पादकता में बाधा आती है और भोजन और अन्य कृषि उत्पादों की बढ़ती मांगों को पूरा करने की उनकी क्षमता सीमित हो जाती है।कृषि के लिए बिजली सब्सिडी का मुद्दा एक और गंभीर चिंता का विषय है। किसान सिंचाई, मशीनरी और अन्य कृषि गतिविधियों के लिए बिजली पर बहुत अधिक निर्भर हैं। हालाँकि, अपर्याप्त सब्सिडी उनके लिए बिजली की खपत से जुड़ी उच्च लागत वहन करना चुनौतीपूर्ण बना देती है। यह न केवल उनकी उत्पादकता को प्रभावित करता है बल्कि उन्हें अधिक कुशल और टिकाऊ कृषि पद्धतियों को अपनाने से भी हतोत्साहित करता है। (Farmer leader Chaudhary Rakesh Tikait will come to Mokama)

बैठक के दौरान दिनेश कुमार ने बड़े जोश और जज्बे के साथ किसानों की सभा को संबोधित किया। (During the meeting, Dinesh Kumar addressed the farmers’ gathering with great enthusiasm and passion)

बैठक के दौरान दिनेश कुमार ने बड़े जोश और जज्बे के साथ किसानों की सभा को संबोधित किया। उन्होंने किसानों के बीच एकता के महत्व पर जोर दिया और उनसे अपने अधिकारों और बेहतर आजीविका के लिए अपनी लड़ाई में मजबूती से खड़े रहने का आग्रह किया। । दिनेश कुमार ने मोकामा में किसानों के सामने आने वाली चुनौतियों पर प्रकाश डाला और तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने फसल की कम कीमतें, सरकारी समर्थन की कमी और बढ़ते कर्ज जैसे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जो किसानों को गरीबी के दुष्चक्र में धकेल रहे थे। उन्होंने इन चिंताओं को दूर करने के लिए एक व्यापक योजना प्रस्तावित की, जिसमें विरोध प्रदर्शन आयोजित करना, किसानों के बीच उनके अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और उनकी उपज के लिए उचित मूल्य की मांग करना शामिल था। (Farmer leader Chaudhary Rakesh Tikait will come to Mokama)

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

देश और दुनिया की इस तरह के अन्य खबरों को जानने के लिए मोकामा ऑनलाइन डॉट कॉम के अतिरिक्त हमारे सोशल मीडिया प्लेटफार्म फेसबुक ,ट्विटर ,इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर हमे फॉलो करें।

ये भी पढ़ें:-राम मंदिर के भक्तों के लिए अयोध्या में 10 अवश्य घूमने योग्य स्थान

ये भी पढ़ें:-भारतीय राजनीति में 6 सबसे प्रभावशाली महिलाएं

error: Content is protected !!