पशुपालन से आत्मनिर्भर बनेगा मोकामा

पशुपालन से आत्मनिर्भर बनेगा मोकामा । (Mokama will become self-reliant through animal husbandry)

बिहार।पटना।मोकामा।मोकामा के श्रीकृष्ण गौशाला के तत्वाधान में पशुपालकों का एक 30 सदस्यीय दल कृषि वज्ञान केंद्र, बाढ़ में पांच दिवसीय प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा है ।दिनांक 05/10/23 से प्रारम्भ हुए इस प्रशिक्षण शिविर में पशुपालन एक लाभकारी व्यवसाय पर सदस्यों को ट्रेनिंग दिया जा रहा है ।पहले, पशुपालन को पीढ़ियों से चले आ रहे एक पारंपरिक व्यवसाय के रूप में देखा जाता था, जो अक्सर ग्रामीण आजीविका से जुड़ा होता था। हालाँकि, मोकामा की श्री कृष्ण गौशाला के तत्वावधान में, परिप्रेक्ष्य में बदलाव आया है क्योंकि वे पशुपालन को एक लाभदायक व्यवसाय बनाने की क्षमता को पहचानते हैं।

(Mokama will become self-reliant through animal husbandry)

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

Mokama will become self-reliant through animal husbandry
विज्ञापन

पशुपालकों की 30 सदस्यीय टीम फिलहाल बाढ़ के कृषि विज्ञान केंद्र में पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम से गुजर रही है। (A 30-member team of animal farmers is currently undergoing a five-day training program at the Krishi Vigyan Kendra in Barh)

पशुपालकों की 30 सदस्यीय टीम फिलहाल बाढ़ के कृषि विज्ञान केंद्र में पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम से गुजर रही है। 05/10/23 को शुरू हुए इस प्रशिक्षण शिविर का उद्देश्य प्रतिभागियों को अपने मवेशी पालन प्रथाओं को एक टिकाऊ और आकर्षक उद्यम में बदलने के लिए आवश्यक आधुनिक तकनीकों और ज्ञान से लैस करना है। प्रशिक्षण कार्यक्रम में पशुपालन के विभिन्न पहलुओं को शामिल किया गया है, जिसमें उन्नत प्रजनन तकनीक, बेहतर पोषण प्रबंधन, रोग की रोकथाम और नियंत्रण के उपाय और प्रभावी विपणन रणनीतियाँ शामिल हैं। इन कौशलों और ज्ञान को प्रदान करके, आयोजक पशुपालकों को उनकी उत्पादकता और लाभप्रदता बढ़ाने के लिए सशक्त बनाने की उम्मीद करते हैं। (Mokama will become self-reliant through animal husbandry)

विशेषज्ञों ने जानवरों में लम्पी रोग को फैलने से रोकने के लिए शीघ्र पता लगाने और उचित उपचार के महत्व पर जोर दिया। (Experts stress the importance of early detection and appropriate treatment to prevent the spread of Lumpy disease in animals)

05/10/23 को प्रशिक्षण शिविर के उद्घाटन के दौरान, डॉ. रीता सिंह, धर्मेंद्र कुमार, डॉ. मृणाल और डॉ. राजीव कुमार ने एक साथ आकर प्रतीकात्मक रूप से दीप जलाया, जो पशु स्वास्थ्य देखभाल में एक नए अध्याय की शुरुआत का प्रतीक था। शिविर का उद्देश्य उस विशिष्ट मुद्दे को संबोधित करना था जो क्षेत्र में जानवरों को प्रभावित कर रहा था – जानवरों की पलकों की गांठदार लम्पी बीमारी।शिविर में विशेषज्ञों ने इस अवसर का उपयोग गाय पालकों और अन्य उपस्थित लोगों को इस विशेष बीमारी और पशु स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव के बारे में शिक्षित करने के लिए किया। उन्होंने बताया कि कैसे गांठदार लम्पी रोग जानवरों की पलकों को प्रभावित करता है, अगर इलाज न किया जाए तो असुविधा और संभावित जटिलताएं पैदा हो सकती हैं। विशेषज्ञों ने जानवरों में इसे और फैलने से रोकने के लिए शीघ्र पता लगाने और उचित उपचार के महत्व पर जोर दिया। (Mokama will become self-reliant through animal husbandry)

विशेषज्ञों ने जानवरों में लम्पी रोग को फैलने से रोकने के लिए शीघ्र पता लगाने और उचित उपचार के महत्व पर जोर दिया। (Experts stress the importance of early detection and appropriate treatment to prevent the spread of Lumpy disease in animals)

गांठदार लम्पी रोग को संबोधित करने के अलावा, प्रशिक्षण शिविर में गायों में दूध उत्पादन बढ़ाने पर भी ध्यान केंद्रित किया गया। गाय पालकों को विभिन्न तकनीकों और प्रथाओं के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई जो दूध की पैदावार बढ़ाने में मदद कर सकती हैं। विशेषज्ञों ने उचित पोषण पर अंतर्दृष्टि साझा की । इस प्रशिक्षण शिविर को लेकर श्रीकृष्ण गौशाला के सचिव चन्दन कुमार पिछले 6 महीने से तयारी कर रहे थे ।उन्हीने बताया की पशुधन व्यवसाय को अगर तकनीक से जोड़ दिया जाय तो यह बहुत ही मुनाफे का व्यवसाय हो जायेगा। मोकामा के हजारों लोग पशुधन को व्यवसाय को अपनाकर आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हो सकते हैं । (Mokama will become self-reliant through animal husbandry)

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

देश और दुनिया की इस तरह के अन्य खबरों को जानने के लिए मोकामा ऑनलाइन डॉट कॉम के अतिरिक्त हमारे सोशल मीडिया प्लेटफार्म फेसबुक ,ट्विटर ,इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर हमे फॉलो करें।

ये भी पढ़ें:-राम मंदिर के भक्तों के लिए अयोध्या में 10 अवश्य घूमने योग्य स्थान

ये भी पढ़ें:-भारतीय राजनीति में 6 सबसे प्रभावशाली महिलाएं

error: Content is protected !!